शॉर्ट्स के फेर में फंसे राहुल गांधी

शॉर्ट्स के फेर में फंसे राहुल गांधी

‘क्या आपने किसी महिला को संघ की शाखा में शॉर्ट्स पहन के जाते देखा है?’ राहुल गांधी ने ये उद्गार अहमदाबाद की नवसर्जन यात्रा के अवसर पर बोले है। अच्छा राहुल भैया, हम बांहे चढ़ाके आप से ई बात पूछना चाहते है कि ये आपका मन है या फ़िर आप वहां बैठी जनता को उत्साहित करने के लिए कह रहे थे। क्योंकि अपने देश में सबसे आसान है ‘महिला’ शब्द कही भी घुसेड़-मुसेड के लोगों की बत्तीसी निकलवाना। लतीफ़े खत्म हो गए है तो कम से कम ऐसे जोक तो मत मारिये कि लोग आप पर जोंक बनकर टूट पड़े और आपका सब धर खून चूस जाये।

स्क्रिप्ट राइटर बदल दिए थे क्या, आपका पूरा पैकेज वो तो नहीं लिख दिया था जिसने हनीप्रीत का एक्सक्लूसिव इंटरव्यू लिया था , हाँ उहे आज तक वाला पत्रकार, जो मिस्टर इंडिया की तरह अदृश्य होकर हनीप्रीत की गाड़ी में पहुँच गया था।

माना कि आप चिर युवा है, ओह सॉरी अभी तो अमूल बेबी है और गुजरात गए है तो लगे हाथ आणंद से सीधा दूध भी बुक करा आइये अपनी बुद्धि के विकास के लिए। ऐसे ही बोलते रहेंगे तो 44 भागे 11 न हो जाये कहीं।

अच्छा महिलाओं को आप बड़ा सम्मान देते हो तो जब प्रियंका गांधी को कमान सौंपने के लिए इलाहाबाद के नौजवान पोस्टर लगाते है तो आप काहे नहीं प्रियंका जी को कांग्रेस प्रमुख बना देते है। उ भी तो महिला है।

ख़ैर! आपको सलाह है कि अभी 2 साल बचे है चुनाव के, अपने दिमाग को अच्छे से रेगमाल से साफ़ कर लीजिए , ओवरहालिंग वैगरह करा लीजिये, कम से कम लड़ने लायक तो खुद को बना लीजिए। तब न चिल्लायेंगे जय जनपथ-जय जनपथ।

Article written by

मैं जीवन॥ को अभी समझ ही रहा हूँ..........

Please comment with your real name using good manners.

Leave a Reply

shopify site analytics